शायरी २ लाइन में – ये दबदबा ये हुकुमत

ये दबदबा, ये हुकुमत, ये नशा, ये दौलते !
सब किरायदार है,,,घर बदलते रहते हैं !!








Updated: April 20, 2017 — 1:25 pm

Leave a Reply

Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017