हिंदी शायरी – ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा

ज़िन्दगी का फ़लसफ़ा भी कितना अजीब है,
शामें कटती नहीं, और साल गुज़रते चले जा रहे हैं








Updated: April 18, 2017 — 2:32 pm

Leave a Reply

Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017