हिंदी शायरी – बुलंदियों की ख्वाइशें तो

बुलंदियों की ख्वाइशें तो बहुत है मगर;
दूसरों को रौंदने का हुनर कहाँ से लायें…?








Updated: April 20, 2017 — 2:20 pm

Leave a Reply

Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017