loading…


New 2 Line Poetry – रुई का गद्दा बेच कर

रुई का गद्दा बेच कर, मैंने इक दरी खरीद ली।
ख्वाहिशों को कुछ कम किया मैंने, और ख़ुशी खरीद ली ।




loading…





Updated: April 18, 2017 — 2:59 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017