loading…


New Latest Shairo Shayari 2 Lines – अजनबी मैं भी नही थी

अजनबी मैं भी नही थी अपरिचित तुम ही कहाँ थे
पिछले जनम का रिश्ता था अब जाकर मिले यहाँ थे




loading…





Updated: April 14, 2017 — 5:25 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *




Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017