New Latest Shairo Shayari 2 Lines – मेरी पीठ पर वो जख्म हैं

मेरी पीठ पर वो जख्म हैं जो अपनों की निशानी है
वरना सीना तो आज भी दुश्मनी के इंतज़ार मैं बैठा है








Updated: April 17, 2017 — 4:21 pm

Leave a Reply

Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017