loading…


New Poetry Two Lines – आशियानें बने भी

आशियानें बने भी तो कहाँ जनाब,
जमीनें महँगी हो चली है और लोगों के दिल छोटे




loading…





Updated: April 7, 2017 — 3:30 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *




Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017