New Poetry Two Lines – भरोसा तुझपे करूं भी

भरोसा तुझपे करूं भी तो किस तरह ऐ दोस्त
तू बात बात पे एहसान जो गिनाता है !!








Updated: April 20, 2017 — 4:18 pm

Leave a Reply

Hindi Shayari - रोमांटिक, दर्द भरी और प्रेरक शायरी © 2017