व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – क़दर किरदार की होती है

क़दर किरदार की होती है,
वरना
कद में तो साया भी
इंसान से बड़ा होता है


Leave a Reply