व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – गुमनाम है लोग वतन पर

गुमनाम है लोग वतन पर जान देने वाले
यहाँ लोग तो थपड खाकर मशहुर हो जाते है


Leave a Reply