व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – सुनो जिसकी फितरत थी

सुनो जिसकी फितरत थी बगावत करना,
हमने उस दिल पे हुक़ूमत की है


Leave a Reply