व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – इश्क़ मरता कहाँ है

इश्क़ मरता कहाँ है यारों,
ये तो दो टुकड़ों में जिया करता है


Leave a Reply

Your email address will not be published.