व्हाट्सएप्प हिंदी शायरी – तुम्हें धड़कनों में

तुम्हें धड़कनों में बसाया तो धड़कने भी बोल उठीं,
अब मज़ा आ रहा है धक-धक करने में


Leave a Reply

Your email address will not be published.