शायरी २ लाइन में – अपने सिवा बताओ कभी

अपने सिवा बताओ कभी कुछ मिला भी है उसे..
हज़ार बार ली हैं उसने मेरे दिल की तलाशियाँ!