शायरी २ लाइन में – काश तेरी याद भी

काश तेरी याद भी निकाह जैसी होती,
तीन तलाक कहकर तुझसे आजाद हो जाते


Leave a Reply

Your email address will not be published.