शायरी २ लाइन में – किनारे में रहूँ तो

किनारे में रहूँ तो फिसलने का डर
अंदर जाऊ तो डूबने का डर
और डूब जाऊ तो खत्म होने का डर


Leave a Reply