शायरी २ लाइन में – कौन कहता है दुआओं के

कौन कहता है दुआओं के लिए हाथों की ज़रुरत होती है,
मेरे सनम की झुकी पलकों से भी दुआ कबूल होती है


Leave a Reply

Your email address will not be published.