शायरी २ लाइन में – जब अपनों से

जब अपनों से धोखे मिलते है,
तब तनहाइयाँ ही अच्छी लगती है


Leave a Reply

Your email address will not be published.