शायरी २ लाइन में – नफ़रत भी क्यूँ करे उससे

नफ़रत भी क्यूँ करे उससे,
उतना भी क्यूँ रखें वास्ता


Leave a Reply

Your email address will not be published.