शायरी २ लाइन में – बाज़ारों की चहल पहल से

बाज़ारों की चहल पहल से रौशन है
इन आँखों में मंदिर जैसी शाम कहाँ…