शायरी २ लाइन में – मजदुर के घर कहाँ

मजदुर के घर कहाँ औलाद पैदा होती है,
मजदुर के घर सिर्फ दो हाथ पैदा होते है


Leave a Reply

Your email address will not be published.