शायरी २ लाइन में – मन के धागे में

मन के धागे में एक गाँठ लगाई मैंने,
तेरे बाद किसीको नहीं पिरोया इसमें


Leave a Reply

Your email address will not be published.