शायरी २ लाइन में – सुख मेरा काँच सा था

सुख मेरा काँच सा था,
ना जाने कितनों को चुभ गया..


Leave a Reply

Your email address will not be published.