हिंदी के शेर दो लाइन में – गुमनामियों मे रहना

गुमनामियों मे रहना, नहीं है कबूल मुझको
चलना नहीं गवारा, बस साया बनके पीछे


Leave a Reply