हिंदी के शेर दो लाइन में – मैं ख़ाली सा कागज़ था

मैं ख़ाली सा कागज़ था कोई…
वो मिली मुझे किसी नज़्म की तरह —-


Leave a Reply