हिंदी के शेर दो लाइन में – शायद उम्मीदें ही होती है

शायद उम्मीदें ही होती है ग़म की वजह,
वरना ख़्वाहिशें रखना कोई गुनाह तो नहीं


Leave a Reply

Your email address will not be published.