हिंदी पोएट्री २ लाइन में – ज़रूरतों ने उनकी कोई

ज़रूरतों ने उनकी कोई और ठिकाना ढूंढ लिया शायद,
एक अरसा हो गया मुझे हिचकी नहीं आई


Leave a Reply

Your email address will not be published.