हिंदी पोएट्री २ लाइन में – मौत के फ़रिश्ते

मौत के फ़रिश्ते मेरे गुनाहों का हिसाब बता रहे थे,
किताब के हर पन्ने-पन्ने पर बस महोब्बत लिखी मिली