हिंदी पोएट्री २ लाइन में – मैं नादान थी

मैं नादान थी जो वफ़ा की तलाश करती रही,
ये भी नहीं सोचा की अपनी साँस भी एक दिन बेवफा बन जायेगी


Leave a Reply

Your email address will not be published.