हिंदी शायरी – मरना भी मुनासिब नहीं

मरना भी मुनासिब नहीं,
और जीने की चाह नहीं


Leave a Reply

Your email address will not be published.