हिंदी शायरी – मेरी फ़ितरत में

मेरी फ़ितरत में नहीं था तमाशा करना,
बहुत कुछ जानते थे मगर ख़ामोश रहे…


Leave a Reply

Your email address will not be published.