हिंदी शायरी – मैं तुझसे अब कुछ नहीं

मैं तुझसे अब कुछ नहीं मांगूगी ए खुदा,
तेरी देकर छीन लेने की आदत मुझे पसंद नहीं


Leave a Reply