हिंदी शेरो शायरी – अगर अहेसास बयाँ हो

अगर अहेसास बयाँ हो जाते लफ्जों से,
तो फिर कौन करता कद्र खामोशियों की


Leave a Reply

Your email address will not be published.