हिंदी शेरो शायरी – कितनी बातें सोच रखी है

कितनी बातें सोच रखी है तुम्हें सुनाने के लिये,
लेकिन तुम हो की आते ही नहीं मनाने के लिये


Leave a Reply

Your email address will not be published.