हिंदी शेरो शायरी – ख्वाब शीशे के थे

ख्वाब शीशे के थे पिघल गये,
जिंदगी तेरी आँच ज्यादा थी


Leave a Reply

Your email address will not be published.