हिंदी शेरो शायरी – बाग में टहलते एक दिन

बाग में टहलते एक दिन, जब वो बेनकाब हो गए,
जितने पेड़ थे बबूल के सब के सब गुलाब हो गए..


Leave a Reply