हिंदी शेरो शायरी – रातो को आवारगी की

रातो को आवारगी की आदत तो हम दोनों में थी,
अफ़सोस चाँद को ग्रहण और मुझे इश्क हो गया.


Leave a Reply

Your email address will not be published.