Hindi Poem 2 Lines Mein – परिंदों की फितरत से

परिंदों की फितरत से बसे थे हम एक दूसरे के दिल में,
उसके पंख थोड़े बड़े क्या हुए उसने आशियाना बदल लिया


Leave a Reply

Your email address will not be published.