Hindi Poem 2 Lines Mein -फितरत किसीकी यूँ

फितरत किसीकी यूँ ना आजमाया कर ए जिंदगी,
हर शख्स अपनी हद में लाजवाब होता है


Leave a Reply

Your email address will not be published.