Hindi Poem 2 Lines Mein – हर राह पर तुम्हें

हर राह पर तुम्हें तलाश करती रही निगाहें,
काश यादों से निकलकर तुम रूबरू हो जाते


Leave a Reply

Your email address will not be published.