Hindi Poem 2 Lines Mein – ख़ुदा जाने कौन सी

ख़ुदा जाने कौन सी कसर रह गई थी तुम्हे चाहने में,
तुम जान ही नहीं पाई की मेरी जान हो तुम


Leave a Reply

Your email address will not be published.