Hindi Shayari – क्यूँ नहीं लेता

क्यूँ नहीं लेता हमारी तू ख़बर ऐ बे-ख़बर
क्या तिरे आशिक़ हुए थे दर्द-ओ-ग़म खाने को हम


Leave a Reply

Your email address will not be published.