Hindi Shayari – हुस्न को चांद

हुस्न को चांद जवानी को कमल कहते हैं
देखने वाले तुझे शोक गजल कहते हैं
उफ ये संगेमरमर सा तराशा हुआ शफाक बदन
देखने वाले तुझे ताजमहल कहते हैं !