Hindi Shayri 2 Line Mein – मेरी रूह को

मेरी रूह को अब तक जन्नत नसीब नहीं हुई,
इश्क को मरे हुए तो ज़माना हो गया


Leave a Reply

Your email address will not be published.