Latest Hindi Shayari 2017 – रुखसत हो गए तुम

रुखसत हो गए तुम बिना किसी लिहाज़ के;
महफ़िल जवाँ थी, पर अफ़सोस कमबख्त हो तुम मिजाज़ के।