New 2 Line Poetry – जब अपनों से धोखे मिलते हैं

जब अपनों से धोखे मिलते हैं,
तब तन्हाईयाँ ही अच्छी लगती है..


Leave a Reply

Your email address will not be published.