New 2 Line Poetry – ये सोचकर मरने की

ये सोचकर मरने की तमन्ना हो जाती है दोस्तों,
क्या पता मेरे जनाजे को ही देखने आ जाये वो


Leave a Reply

Your email address will not be published.