New 2 Line Poetry – हर रोज गिरकर भी

हर रोज गिरकर भी मुकम्मल खड़े है,
ए जिंदगी देख मेरे हौंसले तुझसे भी बड़े है


Leave a Reply

Your email address will not be published.