New Poetry Two Lines – आशियानें बने भी

आशियानें बने भी तो कहाँ जनाब,
जमीनें महँगी हो चली है और लोगों के दिल छोटे


Leave a Reply

Your email address will not be published.