New Poetry Two Lines – एक खिलौना ही तो हूँ

एक खिलौना ही तो हूँ मैं उसके हाथों का,
रुठती वो है और टूटता मैं हूँ


Leave a Reply

Your email address will not be published.